Kavita Kosh

Get Kavita Kosh, Poems, Hasya Kavita, Indian Poets, Kabir, HarivanshRai Bachchan, Suryakant Tripathi Nirala, Premchand, Gulzar, Novels,Stories in Hindi

Gulzar Poetry in Hindi | गुलज़ार की कविताएं | Gulzar Shayari

Gulzar Poetry in Hindi | गुलज़ार की कविताएं | Gulzar Shayari

Gulzar Poetry in HindiGulzar Poetry in Hindi : सम्पूर्ण सिंह कालरा, जो कि गुलज़ार के नाम से विख्यात हैं, भारतीय हिंदी साहित्य के बेहद जाने माने नाम है | वह ना सिर्फ हिंदी लेखक हैं बल्कि एक कवी, एक संगीतकार और एक फिल्म निर्देशक भी है | गुलज़ार का जन्म सन 1934, अगस्त 14, झेलम जिले में हुआ (जो कि पाकिस्तान में है ) | गुलज़ार का जन्म कालरा सिख परिवार में हुआ | आजादी के बाद उनका परिवार भारत आ गया | एक लेखक बनने से पहले उन्होंने मुंबई में कई छोटे मोटे काम किये | उन्होंने अपने करियर की शुरुआत 1963 में संगीत निर्देशक “श्री एस डी बर्मन” के साथ बतौर गीतकार के रूप में करी | बंदिनी उनकी बतौर गीतकार पहली फिल्म थी | इसके बाद उन्होंने कई प्रसिद्ध संगीतकार जैसे कि आर डी बारमैन , सलिल चौधरी , विशाल भारद्वाज और ए आर रहमान आदि के साथ काम किया | वह फिल्म जगत की एक जानी मानी हस्ती है |

Gulzar Shayari 

गुलज़ार कहानियां , कविताएं , फिल्मों के डायलॉग्स एवं फिल्मों की कहानियाँ भी लिखते हैं | उन्होनें आंधी , मौसम और किरदार जैसी फिल्में भी निर्देशित करि हैं | वह भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण , साहित्य अकादमी अवार्ड एवं दादा साहब फाल्के अवार्ड (भारतीय सिनेमा का सबसे बड़ा अवार्ड) से भी सम्मानित किये जा चुके हैं | उन्हें कई नेशनल अवार्ड, 20 फिल्मफेयर अवार्ड , 1 अकादमी अवार्ड और 1 ग्रैमी अवार्ड से भी सम्मानित किया जा चुका है |

Gulzar Poetry in Hindi

गुलज़ार ने अभिनेत्री राखी से शादी करी | उनकी एक बेटी भी है जिसका नाम मेघना गुलजार है |

कविता कोष में हम यहां आपके लिए लाये हैं गुलजार की कविताओं का संग्रह | उम्मीद है आपको यह पसंद आएगा 🙂

Gulzar Poetry in Hindi

रचना संग्रह

  • कुछ और नज्में / गुलज़ार (नज़्म संग्रह)
  • छैंया-छैंया / गुलज़ार (गज़ल संग्रह)
  • यार जुलाहे / गुलज़ार (नज़्म एवं गज़ल संग्रह)
  • त्रिवेणी / गुलज़ार (त्रिवेणी संग्रह)
  • पुखराज / गुलज़ार (नज़्म एवं त्रिवेणी संग्रह)
  • रात पश्मीने की / गुलज़ार (नज़्म एवं त्रिवेणी संग्रह)

प्रतिनिधि रचनाएँ

Kavita Kosh © 2018 Frontier Theme